Follow us
HOME
CONTACT

About JEEVAK

Jeevak – the “Real” father of Medical Science

                                                                      

  Jeevak kaumarbhritya (525-450 B.C), contemporary of  lord Buddha, was the first “Historical” doctor of India and the world, whose skill and excellence in field of Medical science had no bounds. He was not a doctor of any particular state but his work field was the whole “Aryavart” (Northern &Central India) and he was a doctor of both ordinary and extra-ordinary people. He successfully treated iconic personalities like lord Buddha, Magadh emperor – Bimbasar & Avanti King – Chand Pradyot. The whole Tripitak literature in Pali language  is full of accounts related to the “Medical Miracles” of Jeevak.

                                   

What mattered most in the life of Jeevak

                                                  – Rajgrih, Lord Buddha & King Bimbasar

                  Jeevak was basically an orphan, adopted by a Prince of Magadh, who found him near a road in Rajgrih(Rajgir). He was found alive (Jeevit) even after abandonment, so he was called “Jeevak”. He was served(Bhritya) by the prince(Kumar) so his surname popularized as Kaumarbhritya. He went to Takshila (Now in Pakistan) for his higher studies a place which could be called as the “first university of the world” and was famous for its specialized study. He studied the whole 8-limbed Ayurved (Medical science of 8 subjects) here for many years. Ultimately he became a great maser and research scholar of this subject. We could verify his intelligence and skill through different case studies of his life.

 

Takshila University(now in Pakistan) where Jeevak studied Ayurved 

Case 1 - “Every plant is a medicine”  :- When the studies were over, the mentor of Jeevak examined him by giving a project. The task was to find a useless plant in the 5 miles circumference of Takshila. Jeevak wandered everywhere and reported in conclusion that “Every plant has medicinal and other uses, no plant is useless.” The teacher was extremely delighted to listen his answer.

Case 2 – Treating a chronic headache through medicinal ghee :- When Jeevak was returning to Magadh from Takshila, in the way he stayed at Saket(Ayodhya). The wife of a famous businessman (Shresthi) was suffering from chronic headache which was not cured by other doctors (Vaidyas). When he inserted medical ghee through her nose. She got relief within 3 days. The shresthi awarded him with 26,000 coin, chariots and servants. This was the first treatment of Jeevak’s career.

Case 3 – “Treating fistula of Magadh emperor Bimbasar” :-  Bimbasar was suffering from fistula. Due to disease, his clothes get stained with blood which was witted by his queen. He became extremely sorrowful due to the pain of disease and the other reason was the humour of the queens. This mentally and physically sick king was treated by only one paste of Jeevak. The happy king awarded him with enormous property and appointed him on the post of royal doctor (Raj vaidya)

Case 4 – “ Head Surgery of a Shresthi” :- A shresthi of Rajgrih has a chronic disease uncured by the Vaidyas. They speculated that shresthi would live five to seven days. Bimbasar appointed Jeevak on this case. Jeevak tied  the patient to the left side for 7 days, on right side for 7 days and central mode for 7 days, then he pierced his skulll and brought out two insects. Then he closed the brain, stitched it and did the bandage. The shresthi according to his promise offered him his whole property but Jeevak took only one lakh coins. 

Jeevak successfully operated the most critical kind of Head Surgery


Case 5 – “Intestinal Surgery of a boy” :- the son of a shresthi of Varanasi had tumor in his intestine. He did not recovered even after many treatments. When Jeevak came to see him, he moved his surgical tool on his stomach & brought out intestine. Then he cut off the tumor and stitched the intestine at it’s position. The boy recovered from disease.

Case 6 – “Treating the disease of Avanti king Chand Pradyot” :- A.T. Mahavagg (Section 8), king Chand Pradyot invited Jeevak from Rajgrih to Ujjain for his treatment. The king was furious in nature and Jeevak knew that fact. That’s why before giving the king medicine, he fled with Bhadravati elephantess with the excuse of bringing medicine for the king from the forest. As soon as the king took the medicine, seviere vomiting started. This made him very angry and thus he ordered to bring the Jeevak before him. But Jeevak using his tactical brain, reaches Rajgrih safely. After some time, Chand Pradyot recovered completely and rewarded Jeevak by sending a very costly pair of Sivayak garments to Rajgrih. 


                Jeevak had a big residence cum Hospital in Rajgrih whose ruins still exist in Rajgir as “Jeevak ambvan”. It literally  means the mango orchard. The building was surrounded by the mango orchard where lord Buddha stayed with his disciples. Jeevak had introduced Ajatshatru to Lord Buddha. Jeevak had even treated the lord Buddha once with his simple medicines which is evident from mahavagg of vinay pitak




 Jeevak was greater than Hippocrates

 

    Why Hippocrates should not be called ‘Father of Medical Science’? 


Ancientness – Jeevak lived between 525-450 B.C. while Hippocrates belonged to   460-370 B.C. Thus Jeevak came earlier than Hippocrates. 

Work Field – Jeevak’s work field was almost whole of Northern & Central India while Hippocrates work field was Greece with few island states. The work field of Jeevak was much larger than that of Hippocrates. 

Education – Jeevak studied Ayurved in the first University of the world, Takshila University under specialised professors of this field while Hippocrates learned medicine from his father & grandfather. Thus it simply shows that Jeevak was more educated & trained than Hippocrates. 

Knowledge  of  Medicine – As explained in case 1,2,3 & 6 that Jeevak was a master of every kind of medicine. Whereas Hippocrates’  therapy was based on      the ‘Healing power of the nature’. He was disinclined towards drugs & generally abstained that. Thus Hippocrates stands nowhere in knowledge of medicine, in front of Jeevak. 

       

          Hippocrates was a simple medical practioner who avoided

complex medicines & surgeries

 Surgery – A.T. the case 4 & 5, Jeevak did extremely complicated Head & Intestinal Surgery, which shows that his skill was almost equal to a modern surgeon. But in case of Hippocrates, he is limited with very simple surgeries like tractions for broken bones, wound surgeries etc. So, in surgery too Jeevak’s excellence exceeds Hippocrates.

Knowledge of Anatomy – Jeevak must had been given a very practical training of Anatomy by dissection of corpses which is evident from his operation techniques. But Hippocrates worked with many incorrect anatomy & physiology, such as ‘Humourism’. Use of corpses for anatomical study were not allowed in Greece, so he lagged behind Jeevak in knowledge of Anatomy.

 Legacy – Jeevak was an icon but he was merely a good practitioner of Ayurved, not a master who was blindly followed by others. He guided & inspired future generation of medical practitioners. Many iconic personalities like Charak, Kashyap, Dhanvantri, Vagbhatt etc. came into the field of Ayurved in future & each contributed in this science. But in the case of Hippocrates, his legacy founded a ‘School of Medicine’ and he was so revered that his teachings were largely taken as too great to be improved upon and no significant advancement of his methods were made for long time. 

      After writing this article, in the end I’m very hopeful that the world especially India would recognize the value of Jeevak and would give him the great regard which he actually deserve. 


 Jeevak was not actually the ‘Father of Medical Science’ but he was the first historical icon in this subject.


 

जीवक एक परिचय
जीवक मेडिकल साइंस के वास्तविक पिता

 

 

जीवक कुमार भृत्य (525-450 BC) समकालिक भगवान बुद्ध भारत और विश्व के पहले ऐतिहासिक डॉक्टर जो मेडिकल साइंस में इतने निपुण और कुशल थे वे न केवल एक राज्य में बल्कि पूरे आर्यव्रत(उत्तरी और मध्य भारत ) में बहुत प्रसिद्द थे. वे सभी के लिए हमेशा तत्पर रहते उन्होंने भगवान बुद्ध मगध के राजा बिम्बिसार और अवन्ति के राजा चंद प्रद्योत का भी उपचार किया था उन्होंने बहुत से चमत्कार किये मेडिकल साइंस में जो आज भी प्रसिद्ध है.  त्रिपत लिटरेचर जो की पाली भाषा में है . वह जीवक के  चिकित्सक चमत्कारों से भरी हुई है . 

जीवक के जीवन का महत्वपूर्ण विषय 



जीवक एक अनाथ बच्चे थे जिन्हे मगध के राजा ने  गोद लिया , उन्होंने उस बच्चे को राजगिर में सड़क के किनारे से उठाया था. यह बच्चा उन्हें जीवित मिला इसलिए उन्होंने इस बच्चे का नाम जीवक रखा. जीवक कुमार द्वारा भृत्य हुए थे इसलिए उन्हें कुमारभृत्य के नाम से भी जाना जाता है . वे फिर उच्च अध्यन्न हेतु तक्षशिला चले गए जो की अब पाकिस्तान में है . तक्षशिला आज दुनिया का पहला विश्वविद्यालय है जो की उस समय विशेष पढाई के लिए प्रसिद्ध था .उन्होंने वहां 8 विषय वाले आयुर्वेद की पढाई  काफी सालो तक की. अंत में वे एक विद्वान डॉक्टर बने और उन्होंने अपनी बुद्धिमता बहुत सारे कार्यो  से  सिद्ध की. 

तक्षशिला विश्वविद्यालय (वर्तमान में पाकिस्तान ) जहा जीवक ने आयुर्वेद का ज्ञान प्राप्त किया 
स्तिथि १- प्रत्येक एक पेड एक औषधि है 
जव पढाई पूरी हो गयी तब एक दिन उनके गुरु ने उनसे एक बेकार पौधा खोज कर लाने को कहा . जब वे गए तो उन्होंने पाया कि एक भी पौधा ऐसा नहीं है जिसमे औषधि न हो उन्होंने हर एक पौधे में कुछ न कुछ उपयोगी चीज़ पायी . उनका यह उत्तर सुनकर उनके गुरु बहुत प्रसन्न हुए

स्तिथि २-- दीर्घस्थायी  सिरदर्द का उपचार औषधि सम्बन्धी घी द्वारा 
जब जीवक तक्षशिला से मगध लौट रहे थे तो उन्होंने साकेत में आश्रय लिया वहां उन्हें एक प्रसिद्ध व्यापारी कि पत्नी जो सिरदर्द से पीड़ित मिली जिनका उपचार कई महान वैद्य नहीं कर पाये जब उन्होंने औषधि सम्बन्धी घी उनकी नाक में पहुचाया तब वे कुल तीन दिन में ही स्वस्थ हो गयी जिसकी कीमत 26000 स्वर्ण मुद्राएँ और कुछ नौकर भी मिले ये उनके जीवन का पहला मरीज़ था जिसका उन्होंने उपचार किया

स्तिथि ३ -- मगध के राजा बिम्बिसार के नासूर का उपचार 
मगध के राजा बिम्बिसार नासूर से पीड़ित थे .इस बीमारी द्वारा उनके कपडे खून से गंदे हो जाते थे . वे बहुत ज्यादा तनाव में रहते थे. इस बीमारी के दर्द से राजा बहुत दुखी रहते थे और रानी के मजाक उड़ाने के द्वारा भी .वे दुखी हो जाते थे . यह मानसिक और शारीरिक बीमार राजा जीवक के एक लेप से ही सही हो पाये इसलिए राजा ने जीवक को बहुत सा धन देकर उन्हें राज वैद्य घोषित किया.. 

स्तिथि ४ -- सिर की शल्यचिकित्सा 
राजगृह के एक श्रेष्ठि को सिर की एक बीमारी थी जो बहुत से वैद्यो द्वारा सही नहीं हो पायी उन्होंने कहा की श्रेष्ठि बस ५ से ७ दिन तक ही जिन्दा रहेगा . इसलिए बिम्बिसार ने जीवक को बुलवाया जीवक ने श्रेष्ठि को ७ दिन तक बाया हिस्सा , ७ दिन तक दाया हिस्सा और ७ दिन तक बीच का हिस्सा बंधा फिर सिर में चीरा लगाकर दो कीड़े बाहर निकाले .श्रेष्ठि ने जीवक को एक लाख सिक्के भेंट किये. 

जीवक ने सफलतापूर्वक सिर का ऑपरेशन किया

स्तिथि ५ -- एक बच्चे की आंतो की शल्यचिकित्सा 

वाराणसी के एक श्रेष्ठि के बेटे को आंतो में रसौली थी जो की बहुत सारे इलाज़ो द्वारा भी ठीक नहीं हो पायी . जब जीवक वहां पहुंचे तब उन्होंने अपने शल्यचिकित्सा के औज़ार से उस बचे की आंत बाहर निकल कर रसौली काट दी और आंत वापस से सिल दी . तब बच्चा दोबारा स्वस्थ हो गया .

स्तिथि  ६ -- अवन्ति के राजा चाँद प्रद्योत की बीमारी का इलाज़

ए.टी . महावाग (सेक्शन ८ ) राजा चाँद प्रद्योत ने जीवक को राजगृह से उज्जैन निमंत्रण भेजा अपने उपचार के लिए राजा बहुत प्रचंड स्वभाव के थे और यह बात जीवक भी जानते थे इसलिए उन्होंने राजा को दवाई दने के बाद वहां से जाना उचित समझा क्योंकि उस दवाई को लेने के बाद राजा को भयंकर उलटी होती और ऐसा ही हुआ राजा को औषधि लेने के बाद उलटी हुई और वे स्वस्थ हो गए और जीवक भी समय पर राजगृह पहुंच गए कुछ समय बाद राजा पूरी तरह स्वस्थ हो गए और उन्होंने जीवक को बहुत बहुमूल्य सिवायक कपड़ो से पुरस्करित किया  

जीवक का एक बड़ा घर और उसके साथ साथ चिकित्सालय भी था जिसका प्रमाण आज भी राजगृह में "जीवक अम्बवन" के नाम से है . जीवक अम्बवन का अर्थ है आम के फल की वाटिका . उनका घर भी आम्र  वाटिका से घिरा हुआ था जहाँ भगवान बुद्ध अपने शिष्यों के साथ रहते थे . जीवक ने अजात शत्रु को भगवान बुद्ध से परिचित कराया जीवक ने भगवान बुद्ध का उपचार साधारण जड़ीबूटियों से किया जो की विनय पिताक के महावग्ग से प्रमाणित होता है . 

 जीवक हिप्पोक्रेट्स से बढ़कर क्यों है 

  

   प्राचीनता : - जीवक का जीवन 525 - 450 BC जबकि हिप्पोक्रेट्स 460  - 370 BC के समयकाल के थे . अतः जीवक हिप्पोक्रेट्स से पहले के समय के थे . 

कार्य क्षेत्र :- जीवक ने समस्त उत्तरी  भारत  और मुख्या भारत में कार्य किया जबकि हिप्पोक्रेट्स ने केवल यूनानी  और कुछ  आइलैंड स्टेट्स में कार्य किया . अतः जीवक का कार्यक्षेत्र हिप्पोक्रेट्स से कही अधिक था 

शिक्षा :- जीवक ने अपनी आयुर्वेदा की  शिक्षा विश्व के  पहले  विश्वविद्यालय तक्षशिला में विशेष प्रोफेसरों से प्राप्त की जबकि हिप्पोक्रेट्स ने जड़ीबूटियों के बारे में शिक्षा  केवल अपने पिता व् अपने दादा से ही प्राप्त की थी .अतः जीवक हिप्पोक्रेट्स से कही अधिक शिक्षित व् ट्रेंड थे 

औषिधयो का ज्ञान :- जैसा की स्तिथि  १ २ ३ व् ६ में बताया गया है जीवक हर प्रकार की औषधिओं के विद्वान थे . जबकि हिप्पोक्रेट्स की चिकित्सक नीति "प्रकृति की आरोग्य शक्ति" पर आधारित थी.उनकी रूचि दवाओ में नहीं थी अतः हिप्पोक्रेट्स जीवक के सामने जड़ीबूटियों के ज्ञान के सामने कही नहीं टिकते 

शल्यचिकित्सा :- स्तिथि ४ और ५ के अनुसार जीवक ने बहुत ही जटिल सर व् आंत की शल्यचिकित्सा की , जो की दर्शाता है  कि  उनका  कौशल किसी आधुनिक चिकित्सक से काम नहीं था. जबकि हिप्पोक्रेट्स केवल टूटी हुई हड्डियों , घाव जैसी साधारण शल्यचिकित्सा के ही ज्ञानी थे . अतः शल्यचिकित्सा के क्षेत्र में भी जीवक हिप्पोक्रेट्स से कही  आगे थे. 

शरीर रचना का ज्ञान :- जीवक को शरीर रचना का ज्ञान था जो कि उनके शरीर के विछेदन कि तकनीक से साबित होता है परन्तु हिप्पोक्रेट्स ने कुछ गलत शरीर विज्ञान व् हुमौरिस्म का ही प्रयोग किया .यूनान में  शरीर विज्ञानं की पढाई के लिए शरीर की विछेदन तकनीक का प्रयोग करना वर्जित था अतः हिप्पोक्रेट्स शरीर रचना के ज्ञान में जीवक से कही पीछे है . 

उत्तरदान :- जीवक एक आयुर्वेदा के चिकित्सक थे. परन्तु आँख मूंदकर उनका अनुसरण नहीं किया जा सकता . उन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में आने वाली पीढ़ी को प्रेरित किया . जैसे की चरक, कश्यप , धन्वन्तरि , वाघभट्ट आदि आयुर्वेदा के क्षेत्र में आये और अपना योगदान दिया . जबकि हिप्पोक्रेट्स ने" स्कूल ऑफ़ मेडिसिन "  नाम का एक विद्यालय खोला , बहुत से विद्यार्थियों ने उनसे शिक्षा प्राप्त की परन्तु उनकी शिक्षा पद्धति में कोई अच्छा बदलाव नहीं हुआ 

जीवक न सिर्फ "मेडिकल साइंस" के पिता थे बल्कि पहले ऐसे ऐतिहासिक मूर्ती है जिन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में कार्य किया

Our Gallery